मूक दर्शक


https://youtu.be/-4i3pvsjvZE

मेरे एहसास


मेरी हर याद में तुम हो, मेरी हर बात में तुम हो, रातो को आते हैं जो मुझे, उन सुहाने ख्वाब में तुम हो। चलना तुम हमेशा मेरे साथ, रख कर मेरे हाथो में हाथ, करती रहना बस प्यार भरी बात, ढल जाये दिन या हो जाये रात, मैं समझूँगा तेरे हर जज़्बात, खूब करेंगे... Continue Reading →

Jaruri Tha


Yaha maan  rahe the sab khuda tumko,Tumhara samne ana bhut jaruri tha, Kisi ko chaav mehsus karani thi,Mera dhoop me ana bhut jaruri tha, Kisi ne puch lia tha gazal k bare me, Tumhara nam btana bhut jaruri tha, Ab meri wo jagah nahi bachi thi us shaks k dil me,Mera waha se nikal jana... Continue Reading →

हम मान जाएंगे


यू हाथो में हाथ लेकर, बातो पर हँसी की परत चढ़ाकर, आँखो से ऑंखे मिलाकर भरोसा मत दिलाओ, हम मान जाएंगे, अपने खालीपन को भरने के लिए, यू हमे मत समझाओ, हम समझ जाएंगे, वो जज़्बात जो एक अरसे सो सोये हुए हैं, इन्हें इतना मत छेड़ो, वो जाग जाएंगे, आप फिरसे वफ़ा करने का... Continue Reading →

आज बस रोना चाहता हूँ


ये freeverse poetry है, जिसमे rhyming नही होती लेकिन कवि अपनी दिल की सब बातें लिखता है आज कुछ लिखने का मन नही है आज फिर मेरी अपेक्षाओं ने मुझे धोखा दिया, फिर मैं खुद से नफरत करने लगा हूँ, फिर से मैं ,अंदर ही अंदर घुटने लगा हूँ, सब कुछ भूल के अश्रु के... Continue Reading →

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑

%d bloggers like this: