मेरी सोच


हे गांधी मुझको माफ करो , मै झूंठ नहीं लिख पाउँगी ।
राष्ट्रपिता कहने से पहले , अपनी नजरों में गिर जाऊँगी ।।

माना आजादी के हवनकुंड में , तुमने भी था हव्य चढ़ाया।
लाठी खायी जेल गए थे , सत्याग्रह उपवास चढ़ाया ।।

छलछंद खेल कर किसने , सुभाष का निष्कासन करवाया था।
तुम नेहरू से नेह कर रहे , हमने योद्धा बीर गंवाया था ।।

भगत सिंह से क्रांतिपुत्र , क्यों तुमको लगते बागी थे ?
फांसी के फंदे झूल गए , पर तेरे आशीर्वाद से बंचित थे ।।

जलियावालाबाग़ की ज्वाला , क्यों तुमको लगी फ़ाग थी जी।
और हमारे ऊधम सिंह ने , गलती कहाँ करी थी जी ?

भारत माता के टुकड़े तुमने , नेहरू हेतु करा डाला ।
और बहा घड़ियाली आँसु , सांपो को न्योता दे डाला ।।

भगवा तुम्हे खटकता था , और हरा हो गया प्यारा जी।
बकरी बनी तुम्हारी माता , गाय हो गयी बैरी जी ।।

हिंदी तुमको लगी काटने , हिंदुस्तानी नाम बनाया।
राम तुम्हारे बादशाह थे , सीता बेगम नाम बनाया।।

काश्मीर की गलियों में भी ,तुमने था विष बमन कराया।
और हैदराबाद पे आके , तर्क तुम्हारा पलटी खाया ।।

भोली भाली बालाओं पर, थे करते ब्रह्मचर्य का साधन।
शर्म करो ना तुमने सोंचा , कैसे काटा उनने जीवन।।

जो सर्वश्व लुटा दुष्टों को , किसी भांति दिल्ली पहुंचे।
जाने क्यों तुम्हारे दिल तक , उनके भाव कभी ना पहुंचे।।

माघ -पूष की ठिठुरन में , उनने अम्बर को था बस्त्र बनाया।
और उन्ही की लाशों पर चढ़ , तुमने तुष्टिकरण हथियार बनाया ।।

सोमनाथ था तुम्हें खटकता , और दरगाहें प्यारी जी।
#राष्ट्रपिता कैसे लिख दूँ , तुम्ही बता दो गांधी जी ।।

यह पोस्ट/लेख/कविता/ जो भी इसको कह सकते हैं किसी और ने लिखी है, मैं उनका नाम नही जानता,लेकिन मैं इस बात से पूर्णतया सहमत हूँ

जय हिंद 🙏

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑

%d bloggers like this: